ऑप्शन ग्रीक्स क्या हैं?और इनका उपयोग कैसे होता है?

क्या आप जानते हैं कि ऑप्शन ग्रीक्स (Option Greeks) क्या होते हैं? और ऑप्शन ट्रेडिंग में इनका उपयोग कैसे होता है?

इस ब्लॉग में हम आपको ऑप्शन ग्रीक्स के बारे में पूरी जानकारी देंगे, ये क्या होते हैं? और ऑप्शन ट्रेडिंग में इनका उपयोग कैसे होता है?

this image indicate the ऑप्शन ग्रीक्स in symbol like delta, gamma, theta, vega, rho

ऑप्शन ग्रीक्स क्या हैं? (What are Option Greeks)

जब हम शेयर बाजार में निवेश करते हैं, तो हमें कई तरह के निवेश विकल्प मिलते हैं। इन निवेश विकल्पों में से एक विकल्प होता है जिसका नाम है ऑप्शन, जो कि शेयरों को खरीदने या बेचने का अधिकार देता है बिना वास्तविक शेयर को ख़रीदे और बेचे ही।

ऑप्शन ग्रीक्स में विभिन्न मापदंड होते हैं जिनका उपयोग किया जाता है ऑप्शन के प्रीमियम को अनुमानित करने और शेयर बाजार की वोलेटिलिटी की गणना करने के लिए। जो निम्नलिखित होते हैं:

  1. डेल्टा (Delta): डेल्टा ऑप्शन का पहला ग्रीक है और यह ऑप्शन के मूल्य की परिवर्तन करने की क्षमता को दर्शाता है। डेल्टा यह दिखाता है कि ऑप्शन का मूल्य कितना बदलेगा जब शेयर का मूल्य बदलेगा। अधिक डेल्टा वाले ऑप्शन के मूल्य में बदलाव अधिक होता है।
  2. गामा (Gamma): गामा ऑप्शन का दूसरा ग्रीक है और यह डेल्टा के परिवर्तन की गणना करता है। गामा दिखाता है कि जब शेयर का मूल्य बदलता है, तो डेल्टा कितना बदलता है। गामा का मान सकारात्मक होता है, जिसका मतलब है कि जब शेयर का मूल्य बढ़ता है, तो ऑप्शन का मूल्य भी बढ़ता है।
  3. थीटा (Theta): थीटा ऑप्शन का तीसरा ग्रीक है और यह समय के गुज़रने के साथ ऑप्शन की कीमत में परिवर्तन की गणना करता है। एक ऑप्शन का मूल्य कम होता रहता है जैसे-जैसे निवेशक का समय बढ़ता रहता है। जैसे-जैसे ऑप्शन एक्सपायरी की तरफ बढ़ता है तो उसका प्रीमियम भी थीटा के कारण कम होता रहता है। इस ऑप्शन को टाइम डिके ऑप्शन भी कहा जाता है।
  4. वेगा (Vega): वेगा ऑप्शन का चौथा ग्रीक है और यह ऑप्शन की कीमत को उठाने या गिराने की गणना करता है जब शेयर बाजार की वोलेटिलिटी बदलती है। वेगा दिखाता है कि जब वोलेटिलिटी बढ़ती है, तो ऑप्शन का मूल्य कितना प्रभावित होता है।
  5. रो (Rho): रो ऑप्शन का पांचवां है और यह ऑप्शन की कीमत में बदलाव की गणना करता है जब बाजार में रिपो रेट बदलते हैं। रो दिखाता है कि जब रिपो रेट में बदलाव होता है, तो ऑप्शन के मूल्य में कितना प्रभाव पड़ेगा।

ऑप्शन ग्रीक्स का उपयोग कैसे होता है: (Use of Option Greeks in Hindi)

ऑप्शन ग्रीक्स एक महत्वपूर्ण टूल्स हैं जो निवेशकों को शेयर बाजार की गतिविधियों को समझने में मदद करते हैं। ये ग्रीक्स अलग-अलग परिस्थितियों में ऑप्शन की कीमत के बदलने की क्षमता बताते हैं।

ऑप्शन ग्रीक्स को समझने के लिए निवेशकों को अपने निवेश के एंट्री और टारगेट और रिस्क (Risk and Rewards Ratio) का मूल्यांकन करना होगा। यदि आपका निवेश लंबे समय तक है, तो थीटा का प्रभाव अधिक होगा और आपको इसे ध्यान में रखना चाहिए। वहीं, यदि आप शेयर बाजार की वोलेटिलिटी के बदलाव से प्रभावित होने की उम्मीद कर रहे हैं, तो वेगा और गामा का ध्यान रखना चाहिए।

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग पोस्ट में, हमने ऑप्शन ग्रीक्स के बारे में जाना और साथ में यह भी जाना कि उनका उपयोग कैसे होता है। ये ग्रीक्स निवेशकों को शेयर बाजार की गतिविधियों को समझने और निवेश के निर्णय लेने में मदद कर सकते हैं। यदि आप ऑप्शन मार्केट में निवेश कर रहे हैं, तो ग्रीक्स की अच्छी समझ आपके लिए बेहद जरुरी है।

ये ग्रीक्स निवेशकों को ऑप्शन की कीमत को अनुमानित करने और शेयर बाजार की गतिविधियों को समझने में मदद करते हैं।

ऑप्शन ग्रीक्स जैसे गामा, डेल्टा, थीटा, रो और वेगा, ये निवेशकों को ऑप्शन की मूल्य में होने वाले बदलाव की गणना करने में मदत करते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: (FAQs)

Q. ऑप्शन ग्रीक्स क्या होता है?

Ans. ऑप्शन ग्रीक्स वह इंस्ट्रूमेंट होता है जो ऑप्शन कॉन्ट्रेक्ट के प्रीमियम को हर मिनट बदलते रहते है। ऑप्शन ग्रीक्स में थीटा, डेल्टा, गामा, रो और वेगा प्रमुख होते है। ये सब मिलकर कॉल और पुट ऑप्शन के प्रीमियम को तय करते है।

Q. ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे काम करती है?

Ans. किसी ऑप्शन को खरीदने या बेचने के लिए किसी भी इन्वेस्टर को समाप्ति (Expiry Date) तक रुकने की आवश्यकता नहीं होती है।

Q. ऑप्शन ट्रेडिंग सीखने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

Ans. ऑप्शन की बहुत सारी बेसिक चीजों को बारीकी से समझना चाहिए, इनमे शामिल है ऑप्शन चैन, ऑप्शन ग्रीक्स, ऑप्शन मोनीनेस आदि और आपको लगातार प्रैक्टिस करनी चाहिए।

2 thoughts on “ऑप्शन ग्रीक्स क्या हैं?और इनका उपयोग कैसे होता है?”

Leave a comment