KPI Green Energy फंडामेंटल एनालिसिस

KPI Green Energy, सुजलॉन और अडानी ग्रीन जैसी रिन्यूएबल एनर्जी बनाने वाली कंपनियां पिछले तीन-चार वर्षों से खबरों में चल रही हैं। क्योंकि भारत सरकार रिन्यूएबल एनर्जी उत्पादन करने वाली कंपनियों को सभी जरुरी चीजें प्रदान कर रही है।

आपको यह जानकर बिलकुल हैरानी होगी कि छोटी कंपनियां भी अब इस दौड़ में पीछे नहीं रही हैं। कई स्मॉल कैप कंपनियों के शेयरों ने अपने निवेशकों को मल्टी-बैगर रिटर्न दिए है।

इस ब्लॉग में हम KPI Green Energy फंडामेंटल एनालिसिस के बारे में बात करेंगे। कंपनी के बिज़नेस और संचालन के बारे में जानकारी देंगे, साथ में हम कंपनी की रिन्यूएबल एनर्जी इंडस्ट्री में पकड़ और कंपनी की फाइनेंसियल स्थिति के बारे में चर्चा करंगे। इसके बाद में कंपनी की भविष्य की योजनाओं पर भी चर्चा करेंगे।

in this image showing a project of KPI Green Energy, this project having showing a lot of solar plats and windmill in this image
KPI Green Energy

KPI Green Energy फंडामेंटल एनालिसिस: (KPI Green Energy Fundamental Analysis in Hindi)

कंपनी ओवरव्यू:

KPI Green Energy जिसे KPI ग्लोबल इंफ्रास्ट्रक्चर के नाम से भी जाना जाता है, यह एक स्मॉल-कैप सौर ऊर्जा उत्पादन करने वाली कंपनी है, जिसका मार्केट कैपिटलाइजेशन 3,060 करोड़ रुपये है। इसकी स्थापना 2008 में हुई थी और यह गुजरात की एक प्रमुख रिन्यूएबल एनर्जी उत्पादन करने वाली कंपनी है।

इसकी क्षमता 312 मेगावाट से अधिक है और बिजली निकासी क्षमता 846 मेगावाट है। कंपनी के पास 1,375 एकड़ से अधिक जमीन है जो कंपनी की खुद की जमीन है और कुछ जमीन को पट्टे पर भी लिया हुआ है।

इसके एक प्रतिष्ठित प्रोडक्ट का नाम है ‘सोलरिज़्म’ जो इस क्षेत्र का बहुत ही विश्वसनीय नाम है। इसके अलावा, यह अपने सीपीपी ग्राहकों के लिए उनकी आवश्यकताओं के अनुसार सौर और पवन ऊर्जा की हाइब्रिड बिजली परियोजनाओं को लगाने का काम भी करती है।

फाइनेंसियल ईयर 2023 में केपीआई ग्रीन एनर्जी की कुल आय का 85% हिस्सा कैप्टिव पावर प्रोड्यूसर (सीपीपी) सेगमेंट का था और बाकी का बचा 15% इसके IIP डिवीजन से का था।

प्रमोटर्स के पास KPI ग्रीन एनर्जी में 54.81% हिस्सेदारी है। ओपन मार्केट की हिस्सेदारी भी 41.66% है और बाकि की 3.48% FIIs के पास है। DIIs के पास 0.06% की हिस्सेदारी है।

इंडस्ट्री ओवरव्यू:

दुनिया के रिन्यूएबल एनर्जी उत्पादन देशों की लिस्ट में भारत अग्रणी देशों में आता है। भारत रिन्यूएबल एनर्जी उत्पादन, पवन ऊर्जा क्षमता और सौर ऊर्जा उत्पादन में चौथे स्थान पर आता है। भारत सरकार के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2023 में सौर ऊर्जा की कुल क्षमता 63.30 गीगावॉट थी।

कुछ अनुमानों के अनुसार, देश की कुल जनसंख्या 2030 तक 150 करोड़ तक पहुंचने की उम्मीद है। तो सरकार भविष्य में ऊर्जा की मांग को पूरा करने के लिए कार्बन उत्सर्जन और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करने के लिए रिन्यूएबल एनर्जी पर ज्यादा सक्रिय रूप से जोर दे रही है। केंद्र सरकार ने 2030 तक 500 गीगावॉट रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता का लक्ष्य लिया है।

भारत में सौर ऊर्जा उत्पादन की बढ़ती मांग, जलवायु में धीरे-धीरे हो रहे बदलाव, सरकार की तरफ से पहल, इस छेत्र में उच्च विदेशी निवेश आदि से इस सेक्टर में लाभ होने की उम्मीद है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि सौर ऊर्जा सेक्टर तेजी से बढ़ते बाजार की श्रेणी में आता है। इसलिए हम कह सकते है कि KPI ग्रीन एनर्जी का सेक्टर के हिसाब से भविष्य अच्छा है।

फाइनेंसियलस: (Financials)

रेवेन्यू और नेट प्रॉफिट:

पिछले पांच वर्षों में 108% रहा है और 87% की भारी सीएजीआर से बढ़कर फाइनेंसियल ईयर 2023 में क्रमशः 644 करोड़ रुपये हो गया।

नीचे दिए गए आंकड़े पिछले पांच वर्षों में कंपनी के रेवेन्यू और नेट प्रॉफिट को दर्शाते हैं:

revenue and net profit of kpi green energy for last five year
net profit

प्रॉफिट मार्जिन्स:

कंपनी ने FY2023 में 29.4% ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन और नेट प्रॉफिट मार्जिन 17.0% दर्ज किया।

नीचे दी गई तालिका पिछले पांच वर्षों में कंपनी के ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन और नेट प्रॉफिट मार्जिन को दर्शाती है:

net profit margin of kpi industries for last five years
net profit margin

रिटर्न रेश्यो:

केपीआई ग्रीन नियोजित पूंजी पर रिटर्न (आरओसीई) कम है, जो सौर ऊर्जा सेक्टर के निवेश पर कम रिटर्न का संकेत दे रहा है। FY2023 में इसका ROE 21.3% था और ROCE 10.7% था।

नीचे दी गई तालिका में रिटर्न रेश्यो दिया गया है:

roe and roce ratio of kpi green energy for last five years
roe roce

डेब्ट एनालिसिस:

इसका ऋण/इक्विटी अनुपात 2 है और ब्याज कवरेज अनुपात 4.5 गुना से थोड़ा कम था।

नीचे दी गई तालिका में कंपनी के ऋण/इक्विटी अनुपात और ब्याज कवरेज अनुपात को दर्शाती है:

debt equity ratio of kpi green energy for last five years
debt equity

KPI ग्रीन एनर्जी की भविष्य की योजनाएँ:

आइए यह जानने का प्रयास करें कि कंपनी और उसके निवेशकों के लिए आगे क्या होने की संभावनाएं है।

FY2023 में कंपनी के पास 42 से अधिक बिजली खरीद एग्रीमेंट थे, जो कंपनी के मजबूत रेवेन्यू को इंडीकेट करते हैं। इसके साथ ही, कंपनी के पास आईपीपी और सीपीपी परियोजनाओं के लिए 116 से अधिक ऑर्डर हैं, जिनमें से 74 से अधिक सीपीपी के हैं जो भविष्य में बड़ी आय की संभावनाओं को इंडीकेट करते हैं।

केंद्र सरकार के 2030 तक 500 गीगावॉट के ग्रीन एनर्जी के लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रबंधन ने 2025 तक 1000 मेगावाट को पूरा करने का लक्ष्य लिया है। इसके अलावा, कंपनी सौर पैनलों की जल रहित सफाई के लिए रोबोट का उपयोग करेगी। सौर ऊर्जा लागत (एलसीओई) में सुधार के लिए बड़ी क्षमता वाले सौर पैनलों के लिए उच्च प्रौद्योगिकी एम 10 या एम 12 कोशिकाओं का उपयोग कर रहा है।

मुख्य मैट्रिक्स:

आइये स्टॉक के प्रमुख मेट्रिक्स पर भी एक नज़र डालते हैं।

key matrics ratio of kpi green energy
key matrics

KPI ग्रीन एनर्जी से सम्बंधित अन्य जानकारी के लिए वीडियो देखें:

KPI GREEN ENERGY Q1 Results 2024:

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग में हम ने KPI ग्रीन एनर्जी के फंडामेंटल एनालिसिस के बारे में विश्तार से जाना, कंपनी के फाइनेंसियल, बैलेंस शीट, प्रॉफिट एंड लोस्स अकाउंट के बारे में जाना। इस स्टॉक ने पिछले पांच वर्षों में करीब 225% का रिटर्न दिया है। तो हम कह सकते हैं कि कंपनी अपने P&L में वृद्धि के साथ अपने निवेशकों को भविष्य में अच्छा रीटर्न दे सकती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: (FAQs)

Q. KPI ग्रीन एनर्जी कंपनी का इतिहास क्या है?

Ans. KPI ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (पूर्व में इसे K.P.I. ग्लोबल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के नाम से जाना जाता था), KP ग्रुप की सोलर और एक प्रमुख अक्षय ऊर्जा उत्पादन कंपनी है। फरवरी, 2008 में बनी थी। यह सोलर कंपनी गुजरात के सूरत में है।

Q. क्या भारत ग्रीन एनर्जी में निवेश कर रहा है?

Ans. रिपोर्ट के अनुसार भारत ने 2022 तक 175 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा स्थापित करने के अपने लक्ष्य को पूरा कर लिया है, और 2025 तक इसका अनुमानित लक्ष्य 280 गीगावॉट है।

2 thoughts on “KPI Green Energy फंडामेंटल एनालिसिस”

Leave a comment