आरबीएल बैंक में महिंद्रा समूह ने खरीदी 3.53 प्रतिशत हिस्सेदारी?

आरबीएल बैंक में महिंद्रा समूह के हिस्सेदारी खरीदते ही आरबीएल के शेयर के मूल्य में 8 प्रतिशत से अधिक वृद्धि हुई है।

इस ब्लॉग में हम जानेगे कि इस खरीद के पीछे के क्या रहस्य हैं और कैसे इससे आपके इन्वेस्टमेंट को बेहतरीन लाभ हो सकता है। एक समझदार इन्वेस्टर के लिए यह एक गोल्डन चांस हो सकता है!

image showing rbl bank logo and महिंद्रा समूह logo
RBL Bank

आरबीएल बैंक में महिंद्रा समूह ने खरीदी हिस्सेदारी:

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक महिंद्रा ग्रुप की एक इकाई ने ओपन मार्केट में आरबीएल बैंक में करीब 3.53 प्रतिशत खरीदी है और अन्य कुछ मीडिया रिपोर्ट की मानें तो महिंद्रा ने आरबीएल बैंक में 4.9 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है।

महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड ने ₹417 करोड़ के निवेश से आरबीएल बैंक में 3.53 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है, कंपनी ने बुधवार को एक्सचेंजों को सूचित किया।

महिंद्रा के निवेश का पॉजिटिव असर आरबीएल बैंक के शेयरों में दिखाई दे रहा है और शेयर 8% से अधिक बढ़कर 52 वीक के हाई लेवल के करीब पहुंच गए हैं।

आरबीआई नियमों के अनुसार यदि किसी बैंक में किसी कंपनी की हिस्सेदारी 5% तक पहुंच जाती है, तो आगे ओर हिस्सेदारी खरीदने के लिए आरबीआई की मंजूरी लेनी होती है। शायद इस प्रक्रिया से बचने के लिए महिंद्रा ग्रुप ने 5 फीसदी से थोड़ी कम हिस्सेदारी खरीदी है।

2021 के दिसंबर में आरबीएल बैंक की फाइनेंशियल हेल्थ ठीक नहीं होने के कारण आरबीआई ने इसके मुख्य महाप्रबंधक श्री योगेश के दयाल को आरबीएल बैंक के बोर्ड में अतिरिक्त निदेशक के रूप में नियुक्त किया था।

श्री आर सुब्रमण्यकुमार आरबीएल बैंक के वर्तमान प्रबंध निदेशक और सीईओ हैं। आरबीएल बैंक शेयर बाजार के दोनों इंडेक्स बीएसई और एनएसई पर लिस्टेड है और इसकी देशभर में 500 से भी ज्यादा ब्रांच हैं।

आरबीएल बैंक एक अभियांत्रिक बैंक है जिसे 1943 में बनाया गया था, और इसकी मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है।

आरबीएल ने जून तिमाही में अपने नतीजों में नेट प्रॉफिट 43% बढ़कर 288 करोड़ रुपये दर्ज किया गया है। नेट इंटरेस्ट मार्जिन में बढ़ोत्तरी के कारण बैंक ने कोर नेट इंटरेस्ट इनकम में 21% की वृद्धि के साथ 1,246 करोड़ रुपये का इजाफा दर्ज किया है।

बैंक इस फाइनेंसियल ईयर में लगभग 70 से 75 ओर नई ब्रांच खोलने का लक्ष्य बना रहा है। महिंद्रा ग्रुप के जुड़ते ही आरबीएल बैंक के शेयर 52 वीक की हाईएस्ट कीमत के करीब पहुंच गए हैं। बुधवार को बाजार बंद होने पर आरबीएल बैंक के शेयर में 16.10 रुपये पर यानी 7.21% की वृद्धि देखने को मिली, जिससे इसका शेयर 239.40 रुपए पर जाकर बंद हुआ।

इस खरीद के पीछे के कारण:

महिंद्रा समूह (Mahindra Group) कि इस हिस्सेदारी खरीद के पीछे कुछ कारण हैं जो इसे एक स्मार्ट इन्वेस्टमेंट बना रहे हैं। एक महत्वपूर्ण कारण यह है कि आरबीएल बैंक बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में एक विश्वसनीय ब्रांड है और इसके पास प्रयाप्त कस्टमर बेस है। इससे महिंद्रा समूह को बैंकिंग सेक्टर में अधिकतम फायदा होगा।

दूसरे कारण के रूप में, आरबीएल बैंक के विकास की गति भी खास रूप से बढ़ रही है। इसके बहुत सारे नए प्रोडक्ट और सेवाओं को विकसित करने के लिए उत्साही देखा गया है। इस समय, बैंक तकनीकी उन्नति और उच्च-तकनीकी एक्सपर्टीज के लिए अपने श्रेष्ठ प्रशिक्षित कर्मचारियों के लिए भी प्रसिद्ध है।

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग में हमने देखा कि कैसे महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड ने ₹417 करोड़ के निवेश से आरबीएल बैंक में 3.53 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी है और इस खरीद के कारण बैंक के शेयरों में 8 प्रतिशत से अधिक वृद्धि हुई है।

आरबीएल ने बैंकिंग सेक्टर में अपना महत्वपूर्ण स्थान साबित किया है और विभिन्न बदलते समय में इसमें निवेश करने से विशेष रूप से रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है। आरबीएल बैंक के विकास और उभरते हुए अवसरों के कारण, महिंद्रा समूह को इसमें हिस्सेदारी खरीदने में रुचि हुई है।

यदि आप बैंकिंग सेक्टर में रुचि रखते हैं और शेयर बाज़ार में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो आरबीएल बैंक के शेयरों में निवेश करने का एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: (FAQs)

Q. आरबीएल बैंक का पुराना नाम क्या है?

Ans. इस बैंक का पुराना नाम रत्नाकर बैंक था, जिसे 2014 में बदलकर आरबीएल बैंक रखा गया है।

Q. आरबीएल बैंक का मालिक कौन है?

Ans. इसके मालिक और सीईओ श्री विश्ववीर आहूजा है।

Q. क्या आरबीएल एक सरकारी बैंक है?

Ans. आरबीएल बैंक निजी क्षेत्र के बैंकों में से एक है।

Leave a comment