जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयरों में पहले ही ट्रेडिंग सेशन में लोअर सर्किट लगा

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज (JFSL) के शेयरों में पहले ही ट्रेडिंग सेशन में 5% की गिरावट देखने को मिली। एक ही दिन में इस कंपनी का मार्केट कैप घटकर 1.6 लाख करोड़ रुपए हो गया।

जियो फाइनेंसियल सर्विसेज के शेयरों में आज यानि 21 अगस्त 2023 को लिस्टिंग के बाद पहले ही ट्रेडिंग सेशन में लोअर सर्किट लगा। आज के इस ब्लॉग में हम जानेगे की जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयरों में आई इस गिरावट के क्या कारण है? और इस कंपनी के बारे में विस्तार से जानेगे।

green back ground image indication demerger of reliance industries and जियो फाइनेंशियल सर्विसेज
जियो फाइनेंशियल सर्विसेज

जिओ फाइनेंसियल सर्विसेज लिमिटेड: (Jio Financial Services Limited In Hindi)

RIL से अलग हुई थी कंपनी:

20 जुलाई 2023 को इस स्टॉक को 265 रुपये प्रति शेयर पर सूचीबद्ध किया गया था जब इसका RIL से डीमर्जर हुआ था तब इसके शेयर प्राइस (261.85) पर एक प्रतिशत से अधिक का प्रीमियम था।

इस कंपनी के स्टॉक ने जब एक्सचेंज पर अपना कारोबार शुरू किया था तब इसका मार्केट कैप 1.68 लाख करोड़ रुपये था जो अब घटकर 1.6 लाख करोड़ रुपये से कम हो गया। स्टॉक को बीएसई पर ‘टी’ ग्रुप सिक्योरिटीज में लेनदेन के लिए शामिल किया गया है, जिसका मतलब होता है कि स्टॉक में इंट्रा-डे ट्रेडिंग नहीं हो सकती। यह कंपनी अब आज से अगले 10 ट्रेडिंग सेशन तक ट्रेड-फॉर-ट्रेड (T2T) सेगमेंट में रहेगी। इस सेगमेंट में ट्रेडिंग करने के लिए शेयर की पूरी पेमेंट देकर डिलीवरी लेनी होती है।

जेएफएसल के शेयरों को रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) के शेयरधारकों को दिया गया था, जिन्हें 1:1 अनुपात में शेयर प्राप्त हुए थे, जिसका मतलब है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रत्येक शेयरधारक को जियो फाइनेंस सर्विसेज का 1:1 अनुपात पर एक शेयर दिया गया था। 19 जुलाई 2023 के कारोबारी दिन के अंत में जिन-जिन शेयरहोल्डर्स के पास रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर्स थे उन शेयर होल्डर्स को जियो  शेयर मिले थे। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास RIL के 50 शेयर थे, तो आपको JFSL के 50 शेयर दिए गए थे।

कंज्यूमर और मर्चेंट लैंडिंग बिजनेस शुरू करने का प्लान:

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज का कंज्यूमर और मर्चेंट लैंडिंग बिजनेस शुरू करने का प्लान है। पिछले साल मुकेश अंबानी ने जियो को एक अलग यूनिट बनाने का ऐलान किया था। उन्होंने इस बात की घोषणा करते हुए कहा था कि जियो फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी बेस्ड बिजनेस होगा, जो देशभर में डिजिटल तरीके से फाइनेंशियल सेक्टर में काम करेगा।

रिलायंस के फाइनेंशियल सर्विसेज बिजनेस की कंपनियां:

रिलायंस के फाइनेंशियल सर्विसेज बिजनेस में 6 कंपनियां शामिल हैं जो निम्नलिखित हैं:

  • रिलायंस इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंट्स एंड होल्डिंग्स लिमिटेड
  • रिलायंस पेमेंट सॉल्यूशंस लिमिटेड
  • जियो पेमेंट्स बैंक लिमिटेड
  • रिलांयस रिटेल फाइनेंस लिमिटेड
  • जियो इंफॉर्मेशन एग्रीगेटर सर्विसेज लिमिटेड
  • रिलायंस रिटेल इंश्योरेंस ब्रोकिंग लिमिटेड का इन्वेस्टमेंट

जियो फाइनेंसियल सर्विसेज गिरावट के बावजूद भी बजाज फाइनेंस के बाद भारत की दूसरी सबसे बड़ी एनबीएफसी है।

FY2023 के जियो फाइनेंशियल सर्विसेज का डेटा:

  • ब्याज आय: 38.3 करोड़ रुपये
  • परिचालन से कुल राजस्व: 41.6 करोड़ रुपये
  • परिचालन लाभ: 39.3 करोड़ रुपये
  • वर्ष के लिए लाभ: 31.3 करोड़ रुपये
  • प्रति शेयर मूल आय: 60.5 रुपये

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज शेयरधारक:

  • प्रमोटर: 46 प्रतिशत
  • अन्य सार्वजनिक शेयरधारक: 40 प्रतिशत
  • एलआईसी: 7 प्रतिशत
  • बीएनवाई मेलन, सिंगापुर सरकार, एसबीआई म्यूचुअल फंड, यूरोपैसिफिक ग्रोथ

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्र:

  • रिलायंस रिटेल फाइनेंस: एमएसएमई, उपभोक्ता ऋण, मर्चेंट लेंडिंग
  •  रिलायंस पेमेंट सॉल्यूशंस: रिटेल और डिलीवरी, मर्चेंटएंटरप्राइज मर्चेंट
  • जियो पेमेंट्स बैंक – संयुक्त उद्यम
  • रिलायंस रिटेल इंश्योरेंस ब्रोकिंग – एक बीमा ब्रोकर के रूप में आईआरडीए के साथ पंजीकृत
  • ब्लैकरॉक के साथ प्रवेश की घोषणा भारत में परिसंपत्ति प्रबंधन उद्योग

जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयरों में आई इस गिरावट के कारण:

शेयर बाजार विशेषज्ञों के अनुसार, जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयर का उचित मूल्य (Fare Value) लगभग 180 रुपये के स्तर पर है और बाजार में और डिस्काउंट की उम्मीद है। दूसरा कारण है कि प्रमुख स्टॉक से इस स्टॉक को हटाने के बाद ओवर पोटेंशियल पैसिव ऑउटफ्लो की चिंताओं के कारण प्राइस गिर रहे हैं।

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग में हम ने जियो फाइनेंसियल सर्विसेज के बारे में जाना और कंपनी के फाइनेंसियल के बारे में जाना। कंपनी की भविष्य की योजनाओ के बारे में जाना। साथ में यह भी जाना की अभी शेयर के प्राइस क्यों गिर रहे हैं। शेयर मार्केट के विश्लेषकों का कहना है कि किसी को भी अल्पकालिक गिरावट के बारे में चिंता करने की जरुरत नहीं है, बल्कि शेयर के मूल्यांकन पर ध्यान देना चाहिए।

जेएफएसल इन्वेस्टमेंट लिए मध्यम और लॉन्ग टर्म इन्वेस्टिंग के लिए ठीक है। जिन निवेशकों के पास यह स्टॉक है वे इस स्टॉक को होल्ड कर सकते हैं। रिलायंस समूह का एक भी स्टॉक ऐसा नहीं है जिसने पिछले कुछ दशकों में अपने निवेशकों को निराश किया हो। इसलिए टेम्पररी गिरावट से घबराना नहीं है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: (FAQs)

Q. रिलायंस के फाइनेंशियल सर्विसेज में कोन-कोन सी कंपनियां हैं?

Ans. रिलायंस के फाइनेंशियल सर्विसेज बिजनेस में रिलायंस पेमेंट सॉल्यूशंस लिमिटेड, रिलायंस इंडस्ट्रियल इन्वेस्टमेंट्स एंड होल्डिंग्स लिमिटेड, जियो पेमेंट्स बैंक लिमिटेड, जियो इंफॉर्मेशन एग्रीगेटर सर्विसेज लिमिटेड, रिलांयस रिटेल फाइनेंस लिमिटेट और रिलायंस रिटेल इंश्योरेंस ब्रोकिंग लिमिटेड का इन्वेस्टमेंट है।

1 thought on “जियो फाइनेंशियल सर्विसेज के शेयरों में पहले ही ट्रेडिंग सेशन में लोअर सर्किट लगा”

Leave a comment