आर्थिक स्वतंत्रता क्या है? | What is Economic Freedom?

आर्थिक स्वतंत्रता:  अपने जीवन में हर आदमी चाहता है कि उसके पास पैसे की निरंतर गतिशीलता बनी रहे और वह अपनी सभी जरूरतों को पूरा करना चाहता है । साथ में वह किसी जरुरत मंद की आर्थिक मदत भी कर सके। वह अपना जीवन खुशहाली में जी सके, इस स्थिति पर पहुंचना ही आर्थिक स्वतंत्र होना कहलाता है।

इस ब्लॉग के माध्यम से हम जानेगे की आर्थिक स्वतंत्रता का मतलब क्या होता है? इसे कैसे प्राप्त किया जा सकता है? इसे प्राप्त करने के लिए हमारी क्या योजनाएं होनी चाहिए?

in this image a man seated in yoga position with wearing suite and tie and both site of man showing indian rupees . the image indicate that the man is free from आर्थिक स्वतंत्रता
आर्थिक स्वतंत्रता

आर्थिक स्वतंत्रता क्या है? (What is Economic Freedom in Hindi?)

आर्थिक स्वतंत्रता का मतलब होता है कि हमें अपनी रोज की जरूरतों को पूरा करने के लिए रोज खुद काम नहीं करना पड़े बल्कि हमारे द्वारा कमाया हुआ पैसा हमारे लिए काम करे। इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि हम काम ही न करें। इसका मतलब यह है कि हम अपना काम अपनी मर्जी से करें, जो मन में आए वह काम करें, जहां मन में हो वहां काम करें, जब मन करें तब काम करें, मतलब की अपनी मर्जी के समय पर अपना मर्ज़ी का काम कर सकें।

खुशहाल जीवन जीने के लिए आज के आर्थिक युग में यह बहुत जरूरी है की जीवन में निरंतर धन का प्रवाह बना रहे।

आर्थिक स्वतंत्रता कैसे प्राप्त करें:

आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए की धन की प्राप्ति से पहले हमें ज्ञान की प्राप्ति होना बहुत जरुरी है। जितना हमारा ज्ञान बढ़ेगा उतनी ही हमारी बुद्धि बढ़ेगी। जितना ज्ञान और बुद्धि होगी उतना ही पैसा हम कमा सकते हैं। इसलिए किसी ज्ञानी महापुरष ने ठीक ही कहा है लर्नर आर अर्नर। आप जितना सीखते हैं उतना ही पैसा कमाते हैं।

कब काम करें:

जब हम कुछ आर्थिक तंगी महसूस करते हैं तब हम धन को कमाने की कोशिश करते हैं। बल्कि जब हमारे आर्थिक हालात अच्छे होते हैं तब हमे धन को कमाने के ज्यादा प्रयास करने चाहिए, तभी हम आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो सकते हैं। इसके लिए हमे अपनी अच्छी आर्थिक स्थिति में ही छोटी-छोटी बचत करनी चाहिए। हमे दोनों ही स्थिति में बचत करनी चाहिए।

इच्छा और जरुरत में अंतर को समझें:

आप जब भी खर्च करें तो उस से पहले यह सोंचे की आप जिस वस्तु या काम के लिए खर्च कर रहे है वह आप की इच्छा है या जरुरत है। केवल जरूरतों को पूरा करे और अपनी नाजायज इच्छाओं पर कंट्रोल करें। खर्च करने के पहले बार-बार सोच ले कि क्या हमें इसकी जरूरत है, तभी उस वस्तु को खरीदें।

आर्थिक योजना बनाएं:

आर्थिक स्वतंत्रता को प्राप्त करने के लिए हमें एक अच्छी योजना बनानी चाहिए कि हमें कितने पैसों की सालाना जरूरत है और आने वाले 5 साल में कितने पैसों की जरूरत पड़ेगी तथा अगले 10 सालों में कितने पैसों की जरूरत होगी।

अपनी पूरी आर्थिक जरुरत, आर्थिक खर्च की पूरी योजना हमे बनानी चाहिए। हमें अपने जीवन में कब और कितने रुपए की जरूरत है उसकी पूरी जानकारी प्राप्त करें और अपना आर्थिक लक्ष्य बनाएं। तभी हम आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त कर सकते हैं।

अपने बिजनेस को सिस्टम ओरिएंटेड बनायें:

हम जो भी बिज़नेस कर रहे हैं, जिस भी तरह का बिज़नेस कर रहे हैं, उसमें ऑटोमेशन और ऑनक्लाउड या एक सिस्टम ओरिएंटेड बिजनेस बनाने का प्रयाश करे, जिसमें सारा काम सिस्टममेटिक ढँक से करें, हमें कुछ करना नहीं पड़ता हमें सिर्फ वह सिस्टम बैठाने के लिए ही काम करना पडता है। उस के बाद सारा काम सिस्टममेटिक ढँक से सरल हो जाता है।

समय को बचाएं:

आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए हमें कुछ लोगों से भी सहायता लेनी पड़ती है। मतलब कि जो काम हम अपने अन्य स्टाफ या कर्मचारी से करा सकते हैं उसमें हम अपना समय ना खर्च करें। हम अपना समय उसी काम में दें जो काम हमें स्वयं ही करना होगा, इससे हम अपने समय की लिवरेज ले पाते हैं और ज्यादा घंटे बढ़ा सकते हैं।

पैसों की मदत लें:

आर्थिक स्वतंत्रता को प्राप्त करने के लिए अगर जरुरत हो तो हमें दूसरों से पैसे की मदत भी ले सकते हैं, बदले में हम उन्हें कुछ सुविधा दे सकते हैं। मदत लेने से पहले ये याद रखें कि इस दुनिया में कुछ भी फ्री नहीं है, हर चीज का एक मूल्य चुकाना पड़ता है।

अमीरी माइंडसेट:

जीवन में आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के प्रोसेस में अमीरी माइंडसेट का अपने मस्तिष्क को एहसास कराना बहुत जरूरी है। इसके लिए ऐसी जगह पर जाएं, जहां पर अमीर लोगों का आना जाना रहता है, वहां जाकर अपना समय बिताएं, इससे आप में भी अमीरी की फिलिंग आएगी और आप भी मस्तिष्क को यह संदेश देंगे कि आप भी अमीर हैं।

धन का भीखारी तो कभी भी करोड़पति बन सकता है किंतु मन का भिखारी कभी करोड़पति नहीं बन सकता। इसलिए सदैव इस बात का ध्यान रखें कि जरुरत मंदो की मदत करे। अगर आपको रुपए को मैनेज करना आ गया तो आपको आर्थिक स्वतंत्र होने से कोई रोक नहीं सकता।

जितना एक्शन उतना रिएक्शन:

सबसे ज्यादा इम्पोर्टेन्ट है आपके जीवन के अंदर पैसा या किसी भी चीज को लाने के लिए एक्शन लेना। हम जितना एक्शन लेते हैं, हमें उतना ही रिजल्ट, देखने को मिलता है। जितना इनपुट हम देंगे उतना ही आउटपुट हमे मिलेगा।

इसे प्राप्त करने के लिए हमें कुछ न कुछ एक्स्ट्रा काम जीवन में करने की जरूरत है। इसलिए हम निरंतर सकारात्मक एक्शन ले सही डायरेक्शन में, कुछ एक्स्ट्रा करने का प्रयास करें तो हम इस आर्थिक स्वतंत्र होने की दिशा में सफल हो सकते हैं। एक्स्ट्रा मतलब की जो हम कर रहे हैं उससे अधिक।

दृढ़ संकल्प या इच्छा शक्ति रखे:

आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए और धनी बनने के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति रखें, क्योंकि दृढ़ इच्छा शक्ति ही हमें हमारे लक्ष्य तक पहुंचाती है।

भावनाओं पर नियंत्रण रखें:

हमे अपनी भावनात्मक क्रियाओं को भी ध्यान पूर्वक समझना चाहिए, अपनी भावनाओं पर नियंत्रण पाना सीखें क्योंकि जैसी भावना, वैसी आदत अपने जीवन में बनाते हैं, वैसे ही परिणाम हमें देखने को मिलते हैं। हमारा वर्तमान हमारी आदतों का ही परिणाम होता है।

पूरा नॉलेज लें:

जिस कार्य को हम करते हैं उस कार्य के बारे में हमें पूरा नॉलेज होना चाहिए और अगर ना हो तो पूरा नॉलेज प्राप्त करने के लिए लक्ष्य बनाएं और इस के तहत रोज 1 घंटे अपने क्षेत्र के बारे में जरूर पढ़ें नई-नई जानकारियां हासिल करें।

आर्थिक स्वतंत्रता से सम्बंधित अन्य जानकारी के लिए वीडियो देखें:

Financial Freedom Related Information  | 5 Rules For Financial Independence

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

निष्कर्ष:

हमारे जीवन में आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए हमें अपनी मर्जी के अनुसार काम करना चाहिए, साथ ही सही नियोजन और योजना बनाने की आवश्यकता होती है। हमें आत्म-संयम और नियमितता बनाए रखनी चाहिए ताकि हम अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकें। इसके साथ ही, हमें अपने विचारों और भावनाओं को नियंत्रित रखना चाहिए।

आर्थिक स्वतंत्रता का मतलब न केवल धन की प्राप्ति है, बल्कि हमारे विचारों, आदतों, और नज़रियों की भी स्वतंत्रता से है। एक सकारात्मक दिशा, सही नियोजन, और आर्थिक चुनौतियों का सामना करने की क्षमता हमें आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करने में मदद करती है।

इसे प्राप्त करने के लिए हमें नियमित ध्यान और मेहनत द्वारा अपने लक्ष्यों की प्राप्ति करने का प्रयास करना चाहिए। यह हमारे जीवन में न केवल आर्थिक स्वतंत्रता को प्राप्त करने में मदद करेगा, बल्कि हमें एक आत्मनिर्भर, सुखद, और समृद्ध जीवन जीने की क्षमता भी प्रदान करेगा।

FAQs:

Q. आर्थिक स्वतंत्रता का अर्थ क्या है?

A. किसी समाज के नागरिकों और व्यापारिक ईकाईयों द्वारा आर्थिक निर्णय लेने की स्वतंत्रता को आर्थिक स्वतंत्रता कहते हैं।

Q. विश्व की सबसे मुक्त अर्थव्यवस्था कौन सी है?

A. 2023 में सिंगापुर ने आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में 100 में से 83.9 अंक प्राप्त किये और पहले स्थान पर है। स्विट्जरलैंड, आयरलैंड, ताइवान और न्यूजीलैंड शीर्ष पांच में हैं।

1 thought on “आर्थिक स्वतंत्रता क्या है? | What is Economic Freedom?”

Leave a comment