आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड स्टॉक एनालिसिस

स्पेशिएलिटी केमिकल्स की डिमांड तेजी से बढ़ रही है, सभी फार्मा, इलेक्ट्रॉनिक्स, आटो, कृषि, एफएमसीजी और कंज्यूमर गुड़स बनाने वाली कंपनियों में स्पेशिएलिटी केमिकल्स का इस्तेमाल होता है। स्पेशिएलिटी केमिकल्स बाजार में पिछले कुछ वर्षों में जबरदस्त वृद्धि देखी गई है।

ओर महामारी के बाद तो ‘चीन+1’ को अपनाने वाली इंटरनेशनल कंपनियों से लाभ उठाने की भारत की पहल के कारण देश का स्पेशिएलिटी केमिकल मार्केट तेजी से बढ़ रहा है और इनके प्रोडक्ट की ग्लोबल डिमांड भी बढ़ रही है। डिमांड बढ़ने से स्पेशियलिटी केमिकल्स की कीमतों में भी इजाफा हो रहा है और कंपनियों को इसका अच्छा फायदा हो रहा है।

इन सब वजहों से स्पेशिएलिटी केमिकल बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में भी जोरदार तेजी देखने को मिली है। आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Aarti Industries Limited) इस क्षेत्र की एक लीडर कंपनी है।

इस ब्लॉग में, हम आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड स्टॉक एनालिसिस करेंगे और देखेंगे कि क्या यह एक अच्छा इन्वेस्टमेंट ऑप्शन हो सकता है।

in this image showing आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड office outside view and company logo in below left corner of the image
आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड स्टॉक एनालिसिस

आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड स्टॉक एनालिसिस: (Aarti Industries Stock Analysis in Hindi)

केमिकल इंडस्ट्री ओवरव्यू:

केमिकल इंडस्ट्री को दो प्रमुख भागो में बाटा जा सकता है:

थोक केमिकल्स:

ये ऐसे केमिकल होते हैं जो ग्लोबल मार्केट की डिमांड पूरी करने के लिए बहुत बड़े पैमाने पर बनाए जाते हैं – यही कारण है कि इन्हें कभी-कभी कमोडिटी रसायन भी कहा जाता है।

स्पेशिएलिटी केमिकल्स:

स्पेशिएलिटी केमिकल्स अक्सर ग्राहकों की जरूरतों और उनकी समस्याओं की गहन रिसर्च करने के बाद स्पेशली बनाये जाते हैं।

केमिकल इंडस्ट्री कुल वर्तमान बाज़ार लगभग 300000 करोड़ रुपए का है, जिसमें से थोक केमिकल्स की हिस्सेदारी 225000 करोड़ है। जबकि स्पेशलिटी केमिकल्स का उद्योग वर्तमान में 75000 करोड़ का है और 10%-12% की वृद्धि दर के साथ 2024 तक इसके लगभग 1 लाख करोड़ तक बढ़ने की उम्मीद है। थोक रसायन उद्योग के 5%-6% की दर से बढ़ने की उम्मीद है और 2035 तक बाजार का आकार दोगुना होने का अनुमान है।

जहां तक ​​स्पेशलिटी केमिकल्स उद्योग के कुल ग्लोबल मार्केट का सवाल है, चीन के पास लगभग 25% बाजार हिस्सेदारी है। चीन विश्व में विशेष रसायनों का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है। लेकिन पिछले 3-4 वर्षों से, चीन ने इन विशेष रसायन संयंत्रों से निकलने वाले प्रदूषकों के संबंध में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए ब्लू स्काई नीति अपनाई है।

कंपनियों को या तो नजदीकी क्षेत्रों में ट्रांसफर किया जा रहा है या उनके उत्पादन पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। जो कंपनियाँ पहले चीन से सप्लाई लेती थीं, वे अब भारत से सप्लाई लेने की कोसिस कर रही हैं।

आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड फंडामेंटल एनालिसिस: (Aarti Industries Fundamental Analysis)

आरती इंडस्ट्रीज के फंडामेंटल एनालिसिस की सुरुवात हम कंपनी के मैनेजमेंट और प्रोडक्ट से शुरू करेंगे। उसके बाद, हम कंपनी की फाइनेंसियल हेल्थ पर गौर करेंगे। उसके बाद कंपनी की भविष्य की योजनाओं पर चर्चा करंगे।

कंपनी ओवरव्यू:

आरती इंडस्ट्रीज की स्थापना 1984 में हुई थी, इसकी शुरुआत फर्स्ट जनरेशन के टेक्नोक्रेट्स द्वारा की गई थी और अभी यह विशेष रसायनों की लीडर निर्माता कंपनी है।

पिछले दशक में, आरती इंडस्ट्रीज ग्लोबल मार्केट में सप्लाई देने वाली एक भारतीय कंपनी में से एक है जो भारत से बाहर निर्माण करने वाली इंटरनेशनल कंपनी के रूप में विकसित हुई है। कंपनी विश्व स्तर पर चौथे स्थान पर है और यह विभिन्न प्रमुख इंटरनेशनल और लोकल ग्राहकों की पहली पसंद है।

FY2023 तक, कंपनी के पास 17 मनुफैचरिंग यूनिट हैं, 12 पर्यावरण के प्रति जागरूक प्लांट हैं जो 0% पोलुशन करते हैं, 5 अत्याधुनिक सह-उत्पादन पावर प्लांट हैं और 2 अनुसंधान एवं विकास केंद्र भी शामिल हैं। पहले कंपनी अपना स्पेशिएलिटी केमिकल्स और फार्मास्युटिकल कारोबार एक ही नाम से चलाती थी। लेकिन FY2022 में, इसने फार्मास्युटिकल बिज़नेस से अलग होने की घोषणा की जिसके परिणामस्वरूप 2 अलग कम्पनिया बन गईं, मतलब की आरती फार्मालैब्स लिमिटेड (APL) और आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड (AIL)।

इस डीमर्जर का मुख्य उद्देश्य कंपनियों को अपने संबंधित मुख्य बिज़नेस पर ध्यान केंद्रित करना और संसाधनों को अधिक कुशलता से उपयोग करना था।

भौगोलिक उपस्थिति:

FY2023 तक, कंपनी के पास ग्राहकों की एक बड़ी श्रृंखला है, 60 देशों में कंपनी का कारोबार फैला हुआ है, जिसमे 700 से अधिक घरेलू ग्राहक और 400 से अधिक इंटरनेशनल ग्राहक शामिल हैं। निचे दी गयी इमेज कंपनी के प्रमुख ग्राहकों को दर्शाती है:

in this image showing key customers of आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड with there logo and title of image showing on top on image
aarti industries ltd

उत्पाद की पेशकश:

आरती इंडस्ट्रीज के पास 200 से अधिक प्रोडक्ट की एक लम्बी लिस्ट है जो एग्रो केमिकल्स, फार्मास्यूटिकल्स, पिगमेंट, प्रिंटिंग स्याही, पॉलिमर, रंग, सर्फ़ेक्टेंट्स, ईंधन एडिटिव्स, एरोमैटिक्स और स्पेशलिटी केमिकल्स और इंटरमीडिएट के लिए दुनिया भर में अग्रणी उपभोक्ताओं को सेवा प्रदान करती है।

फाइनेंसियलस:

हम कंपनी द्वारा दी गई रिपोर्ट का उपयोग करके कंपनी के फंडामेंटल एनालिसिस करेंगे:

रेवेन्यू और नेट प्रॉफिट:

कंपनी का प्रॉफिट एंड लोस्स स्टेटमेंट बताता है कि कंपनी का ऑपरेटिंग रेवेन्यू FY2019 से FY2023 तक क्रमशः ₹4,706 करोड़ से बढ़कर ₹7,283 करोड़ हो गया है। इससे कंपनी को अपने रेवेन्यू पर 11.55% का 5 साल का सीएजीआर मिला है।

कंपनी अक्टूबर FY2022 में अपने फार्मास्युटिकल बिज़नेस से अलग हो गई और FY2022 के फाइनेंसियल स्टेटमेंट अलग-अलग किए गए बिज़नेस से अलग-अलग हैं। इसके बावजूद भी कंपनी ने FY2019-FY2023 से अपना रेवेन्यू 11.55% की CAGR से बढ़ाया है।

कंपनी ने FY2019-2022 से अपना नेट प्रॉफिट भी ₹492 करोड़ से बढ़ाकर ₹1,186 करोड़ कर लिया था। लेकिन FY2023 के दौरान यह घटकर ₹545 करोड़ रह गया था। इस गिरावट का मुख्य कारण था पिछले पांच वर्षों में सीएजीआर में केवल 2.59% की वृद्धि हुई थी।

मार्जिन एनालिसिस:

पिछले पांच फाइनेंसियल वर्षों में कंपनी ने FY2012 में अपना हाईएस्ट ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन और क्रमशः 14.70% और 7.55% का नेट प्रॉफिट मार्जिन दर्ज किया है। ऑपरेटिंग प्रॉफिट और नेट प्रॉफिट मार्जिन दोनों में गिरावट आई है, यह गिरावट ऑपरेटिंग खर्चों में वृद्धि के कारण है।

रिटर्न अनुपात: आरओसीई और आरओई

FY2021 के रिटर्न अनुपात पर नज़र डालने पर हमे पता चलता हैं कि कंपनी ने वर्ष के दौरान क्रमशः 29.50% और 22.37% का ROE और RoCE रिपोर्ट किया था। FY2023 के दौरान, ROE और RoCE क्रमशः 11.5% और 13.44% तक गिर गया था।

ऋण एवं ब्याज कवरेज अनुपात:

हम देख सकते हैं कि कंपनी की ऋण स्थिति अच्छी है और पिछले दो फाइनेंसियल वर्षों में ऋण-से-इक्विटी अनुपात लगभग 0.55 से 0.58 के बीच रहा है। इससे पता चलता है कि कंपनी अपने बिज़नेस के संचालन और विस्तार के लिए काफी हद तक अपने स्वयं के फंड पर निर्भर है।

इसका मतलब यह भी है कि कंपनी पर ब्याज और लोन राशि चुकाने का बोझ कम है। FY23 का ब्याज कवरेज अनुपात बताता है कि कंपनी ने बकाया ऋणों पर 6.48 गुना ब्याज चुकाने के लिए पर्याप्त मुनाफा कमाया है।

आरती इंडस्ट्रीज की भविष्य की योजनाएँ:

कंपनी FY2023 में अपने केमिकल्स पोजेक्ट्स के लिए 2,500-3,000 करोड़ रुपए खर्च करने का प्लान बना रही है। कंपनी ने अपने बिज़नेस एक्सपेंशन के लिए झगड़िया में 100 एकड़ से अधिक भूमि पर प्रोजेक्ट कार्य शुरू किया है। कंपनी एक साथ 40 से अधिक नए केमिकल प्रोडक्ट पेश कर रही है। इसकी क्लोरो टोलुइन बेस क्षमता को 42,000 टीपीए तक बढ़ाने की भी योजना है।

आरती इंडस्ट्रीज से सम्बंधित अन्य जानकारी के लिए वीडियो देखें:

इस कंपनी से रिलेटेड अन्य इनफोरमशन के लिए वीडियो देखें:

शेयर मार्केट की ताजा न्यूज़ के लिए इन्हे भी पढ़ें:

प्रमुख फाइनेंसियल रेश्यो:

आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड के कुछ प्रमुख फाइनेंसियल रेश्यो निचे की इमेज में दिए गया हैं:

in this image showing key financial ratio of आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड
aarti industries

निष्कर्ष:

इस ब्लॉग में हम ने आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड के फाइनेंसियल एनालिसिस के बारे में जाना, कंपनी के फाइनेंसियल स्टेटमेंट के बारे में जाना, केमिकल इंडस्ट्री के बारे में जाना ओर इस इंडस्ट्री का भविषय कैसा रहेगा उस के बारे में मुख्य बातें जानी।

हमे ध्यान देना चाहिए कि कंपनी का मार्जिन रूस-यूक्रेन युद्ध के कारन कम हो गया था, इसे एक अस्थायी झटका माना जा सकता है। बढ़ते रेवेन्यू और प्रबंधन द्वारा निर्धारित योजनाओं के साथ, कंपनी का भविष्य अच्छा लग रहा है। कंपनी के पास अभी ऑपरेटिंग कॅश फ्लो में थोड़ी रुकावट चल रही है तो 6 से 8 महीने इस समस्या को ख़तम होने में लग सकते हैं। कुल मिलाकर आरती इंडस्ट्रीज लॉन्ग टर्म के लिए अच्छा रीटर्न दे सकती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: (FAQs)

Q. आरती इंडस्ट्रीज क्या करती हैं?

Ans. आरती इंडस्ट्रीज लिमिटेड (एआईएल) विशेष रसायनों और फार्मास्यूटिकल्स का एक अग्रणी भारतीय निर्माता कंपनी है। यह फार्मास्यूटिकल्स, एग्रोकेमिकल्स, पॉलिमर, एडिटिव्स, सर्फेक्टेंट, पिगमेंट और डाई के डाउनस्ट्रीम निर्माण में उपयोग किए जाने वाले रसायनों का निर्माण करती हैं।

Q. आरती इंडस्ट्रीज का मालिक कौन है?

Ans. श्री चंद्रकांत गोगरी जी आरती ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज के संस्थापक हैं। उन्होंने कंपनी की शुरुआत एक छोटी सी इकाई से की थी और इसे आज एक अग्रणी कंपनी तक ले गए हैं।